गुरुवार, 2 मार्च 2017

बिटिया भई विदा घर सूना हो गया

बिटिया भई विदा घर सूना हो गया
हंसते चेहरों का दर्द दूना हो गया
पिंजरे में फंस गई उड़ती मुनिया  
जिस दिन उसका गौना हो गया
-विशाल शुक्ल अक्खड़

कोई टिप्पणी नहीं: