गुरुवार, 22 दिसंबर 2016

उनके घोटालों ने किया बंटाधार हो
तुमने लाके छोड़ा बीच मंझधार हो
इनकी उनकी सबकी नैया फंसी
अब कौन लगाए इनका बेड़ापार हो 

कोई टिप्पणी नहीं: