सोमवार, 19 दिसंबर 2016

माला से आज एक और मनका टूट गया
बस यह जानो एक और 'मन का' रूठ गया

कोई टिप्पणी नहीं: