गुरुवार, 22 दिसंबर 2016

नोटबंदी 4

तुम जो करते हो करते हो करते रहो
स्वांग नित ही नया यूं ही भरते रहो
सीधे-सीधे बता दो पर हमको सनम
तुम तो मरते थे मरते हो मरते रहो
  

कोई टिप्पणी नहीं: