बुधवार, 2 नवंबर 2016

तुमने हमें ठोकर जो मारी न होती
नशीली गजल यह हमारी न होती

कोई टिप्पणी नहीं: