बुधवार, 2 नवंबर 2016

कभी हमें अपना बनाया तो होता
एक बार सही आजमाया तो होता
आ गए दुनिया के बहकावे में तुम
झूठा ही सही हक जताया तो होता

कोई टिप्पणी नहीं: