बुधवार, 2 नवंबर 2016

आओ हम तुम कुछ बात करें
साझा दिल के जज्बात करें
फिर लौट आएं बिसरे दिन
मिलकर ऐसे कुछ हालात करें

कोई टिप्पणी नहीं: