बुधवार, 2 नवंबर 2016

अमवा पर बौर खुब आय गयव रे
होली मा बुढ़ऊ बौराय गयव रे
रंग लिहिन मूंछ खिजाब लगाय के
धोती से पैंट मा आय गयव रे
छोड़ दिहिन लाठी देह सिधाय के
कमरियव मा लचक आय गयव रे
सांझ सबेरे कन घुसेड़ू सजाय के
फिल्मी धुन पर रिझाय गयव रे
चल दिहिन ससुरे झोरा उठाय के
रस्ता मा चक्कर खाय गयव रे
गोरी का मेकअप नजर लाय के
बूढ़ा कय गठरी भुलाय गयव रे
चाल ढाल मा बदलाव पाय के
बूढ़व के ताव आय गयव रे
उठाय लिहिन झाड़ू चश्मा लगाय के
बुढ़ऊ का फागुन भुलाय गयव रे
विशाल शुक्ल अक्खड़

कोई टिप्पणी नहीं: