सोमवार, 8 अगस्त 2016

सच कहता हूं बात बड़ी है बचपन की यह आस खरी है इंसा बनना इतना मुश्किल कहकर मुझसे रोज लड़ी है शुक्ल अक्खड़

कोई टिप्पणी नहीं: