रविवार, 7 अगस्त 2016

सबको खुश करता रहा
खुद में खुद घुलता रहा
अंधेरा घना था बहुत
दीपक सा मैं जलता रहा

कोई टिप्पणी नहीं: