सोमवार, 30 मार्च 2015

हरे भरे को ठूंठ लिखूं
कैसे इतना झूठ लिखूं

कोई टिप्पणी नहीं: