सोमवार, 30 मार्च 2015

एक शेर

जबसे हमने बिजलियां गिराना छोड़ दिया
लोग समझते हैं हमारे जिगर में आग नहीं

कोई टिप्पणी नहीं: