सोमवार, 30 मार्च 2015

नहीं करता हूं ऐसा काम कि मैं आम हो जाऊं
झूठ को सच कह नहीं पाता भले बदनाम हो जाऊं
कोशिश कर जीभर मेरे रकीब मुझे डुबाने की
तेरे सदके ही सही अक्खड़ से गुलफाम हो जाऊं

कोई टिप्पणी नहीं: