सोमवार, 30 मार्च 2015

एक शेर

खेल कर मेरे अरमानों से 
वह अनजान बने फिरते हैं
इतने भी नावाकिफ नहीं हम 
दिल में तूफान लिए फिरते हैं

कोई टिप्पणी नहीं: