सोमवार, 30 मार्च 2015

कभी सोचा है तुम्हें सबसे शिकायत क्यों रहती
दूसरों की मिटाने से अपनी लकीर लंबी नहीं होती

कोई टिप्पणी नहीं: