मंगलवार, 25 मार्च 2014

चाहत की तपन

चाहत की तपन से जलने लगा मन
मिलन की खुशबू से खिलने लगा तन
फूलों की गोद में भंवरा लगा खेलन
कोयलों की कूक संग आ गया बसंत

कोई टिप्पणी नहीं: