मंगलवार, 25 मार्च 2014

हुस्न वालों को इतना गुरूर क्यों है

हुस्न वालों को इतना गुरूर क्यों है
इश्क वाला इतना मगरूर क्यों है
उनकी ओर भी तो देख लिया करो
दिलजले तुझपे इतना सुरूर क्यों है

कोई टिप्पणी नहीं: