मंगलवार, 25 मार्च 2014

किसी की यादों में

किसी की यादों में बसे हो
किसी की सांसों में बसे हो
दिल हारा है, इजहार करो
किसी के ख्वाबों में बसे हो

कोई टिप्पणी नहीं: