मंगलवार, 25 मार्च 2014

तुम्हारे गाल पे...

तुम्हारे गाल पे इक काला तिल है
उसी ने लूटा मेरा दिल है
जरा शराफत से पेश आओ
तुम्हारी अदा बड़ी ही कातिल है

कोई टिप्पणी नहीं: