मंगलवार, 25 मार्च 2014

महफिलें रास आतीं नहीं

महफिलें रास आतीं नहीं तन्हाई का कता दे दो
मंजिलें पास आतीं नहीं गहराई का पता दे दो
डूब गाए जाने कितने ही दिल सुरमई आंखों में
अब हमें भी ऐसी किसी बेवफाई की सजा दे दो

कोई टिप्पणी नहीं: