मंगलवार, 25 मार्च 2014

सच कहूं तो

सच कहूं तो लोग बुरा कहते हैं
चुप रहूं तो लोग बुरा कहते हैं
नहीं पिसूंगा लोगों के फेर में
कहने दो जो लोग बुरा कहते हैं

पांच साल हमें गधा कहते हैं
चुनाव आया अब अब्बा कहते हैं
हम देखेंगे इन चुनावी बेटों को
कितने चोरों को सच्चा कहते हैं

कोई टिप्पणी नहीं: