मंगलवार, 25 मार्च 2014

हर एक हर्फ सवाल लिये फिरता है

हर एक हर्फ सवाल लिये फिरता है
हर लफ्ज तेरा नाम लिये फिरता है
कुछ तो कह दो जुबां से अब अपनी
हर लम्हा यही आस लिये फिरता है

कोई टिप्पणी नहीं: