मंगलवार, 25 मार्च 2014

कह दो

कह दो छुप के यूं न देखा करें
दिल में हलचल यूं न पैदा करें
सदाएं जुबां पर आने तो दें
निगाहें मिला के निबाहा करें

कोई टिप्पणी नहीं: