मंगलवार, 25 मार्च 2014

रिश्ते की टूटन

रिश्ते का यूं टूट जाना कोई कहानी नहीं
आंसू हैं गम के आखों से बहता पानी नहीं
काश वो लम्हा बीत जाता यूं ही चुपके से
सारे सिकवे भूल जाते होती ये नादानी नहीं

कोई टिप्पणी नहीं: