मंगलवार, 25 मार्च 2014

मुहाजिर की कहानी

हर मुहाजिर की एक ही कहानी है
घुटनों में पेट है आंखों में पानी है
बरबस बरस उठती हैं ये अंखियां
याद आती जब दादी और नानी है
भैया की वो धमकी भरी बतियां
पढ़ते-पढ़ते आंखें झपक जानी है
पूछे कौन अम्मां से, बाहर है जाना
अब कहां वैसी कोई रवानी है
दिल में इक हूक सी उठती है
कहां वो बचपन, कहां वो जवानी है

कोई टिप्पणी नहीं: