शनिवार, 18 जनवरी 2014

कोई दियो बताय

पोथी लिखने बैठा पंक्ति लिखी न जाय
ऐसी भीषण ठिठुरन में अंग-अंग थर्राय
कलम बौराई सर्दी से, चलने से घबराई
कैसे लिखूं बातें दिल की कोई दियो बताय

कोई टिप्पणी नहीं: