शुक्रवार, 13 दिसंबर 2013

मायका

अपने घर का मोह कहां कब किससे छूटा है
बिटिया गई परदेस रिश्ता कब इससे छूटा है
जगते-सोते, हंसते-रोते, गर्मी-सर्दी-वर्षा में
यह दिल अब भी हरदम मायके को रोता है...

कोई टिप्पणी नहीं: