शुक्रवार, 13 दिसंबर 2013

सियासत को कितना गिराओगे

सियासत को कितना और गिराओगे
कब तलक यूं सब्जबाग दिखाओगे
समझती है सब जानती है ये जनता
रहनुमाओं चुप करो मुंह की खाओगे

कोई टिप्पणी नहीं: