शुक्रवार, 13 दिसंबर 2013

आईना

आईना हूं झूठ कुछ कह नहीं सकता
सच कहूं ये रहनुमा सह नहीं सकता
अधर में रहूं या तो चटक जाऊं यूं ही
वह जो चाहता वैसा रह नहीं सकता

कोई टिप्पणी नहीं: