शनिवार, 27 अप्रैल 2013

प्यासे को पानी दे मौला

चाहे समंदर छीन ले प्यासे को पानी दे मेरे मौला
चाहे बवंडर छीन ले मरते को सांसें दे मेरे मौला

छीन ले बादल सभी आसमां के और नमी भर दे
सूरज की तपिश हटा बूंदों को बारिश दे मेरे मौला

छीन ले चांद की चांदनी घर के आंगन से सभी
आंखों में रोशनी दिल में उजाले भर दे मेरे मौला

छीन ले सारे हुनर काबिलियत मेरी तकदीर के
आदमियत बाकी रहे ऐसे जज्बे दे मेरे मौला

छीन ले भले ही तू इस जहां की सारी नेमतें
कुर्बान होऊं वतन पर ऐसी हिम्मत दे मेरे मौला

कोई टिप्पणी नहीं: