बुधवार, 2 जनवरी 2013

बाबुल तूने ऐसा किया क्यों भेद रे

बाबुल तूने ऐसा किया क्यों भेद रे
बाबुल तूने ऐसा किया क्यों भेद रे....

हमको भेजा पिया के घर को
देकर अपना संदेश रे
जहां भी जाना नाम कमाना
रखना सुखी अपना देश रे

बाबुल तूने ऐसा किया क्यों भेद रे...

भइया के लिए तूने घर सजाया
प्यारी दुलहिनियां घर लेके आया
उन्हीं दोनों से तूने घर बनाया
हमको भेज दिया परदेस रे
बाबुल तूने ऐसा किया क्यों भेद रे...

कोई टिप्पणी नहीं: