सोमवार, 31 दिसंबर 2012

कभी किसी पर भरोसा न करो, कभी किसी का भरोसा न तोड़ा
सोचो शायद कोई इम्तहान ले रहा है, समय का यही दस्तूर है

कोई टिप्पणी नहीं: