बुधवार, 8 अप्रैल 2009

मुद्दों से भटकते हम

भई आजकल जूतों का बाजार गर्म है. ईराकी पत्रकार जैदी ने विश्व के सबसे शक्तिशाली देश के राष्ट्रपति पर जूता फेंका, तब से जूतों का भाव ही बढ़ गया है. फिर जूता फेंकने की कई और घटनाएं हुईं. और हालिया घटना हुई गृहमंत्री पी चिदंबरम की प्रेस कांफ्रेंस में. एक समय था जब किसी राज्य की विधानसभा में जूता-चप्पल फेंकने पर मीडिया के लोग (मैं भी) खूब हो-हल्ला मचाते थे. स्थिति कमोबेश आज भी कुछ वैसी ही है. हो-हल्ला खूब मचा. किसी ने जरनैल सिंह (बहुत ही वरिष्ठ हैं मुझसे) के पक्ष में, तो किसी ने उनके तरीके की खिलाफत की. मैं यहां न तो उनके पक्ष में और न ही खिलाफत में कुछ कहना चाहता हूं. मैं तो आत्ममंथन करना चाहता हूं, अपनी दशा और दिशा का. आज-कल कहीं न कहीं हम जैसे लोग ही पत्रकारिता की दशा और दिशा तय करते हैं. ऐसे में आत्ममंथन बहुत ही जरूरी हो जाता है. शुरुआत शुरू से करते हैं. पत्रकारिता की पढ़ाई के लिए कोई जाता है, तो पहले दिन उसे सिखाया जाता है, कुत्ते ने आदमी को काटा, तो कोई खबर नहीं. आदमी ने कुत्ते को काटा, तो खबर बनती है. पर यहां एक सवाल उठता है कि अगर रोज-रोज आदमी कुत्ते को काटने लगे, तो कितनी बार खबर बनेगी. दूसरी बात मुद्दे की. जरनैल सिंह ने जूता फेंका, तो हर अखबार के पहले पन्ने पर, हर न्यूज चैनल पर २४ घंटे वही खबर चली. असल मुद्दा तो लोग भूल ही गये. श्री सिंह ने जूता नहीं फेंका होता, तो शायद उस दिन खबर कुछ और होती. कांग्रेस की शान में गृहमंत्री ने पढ़े कसीदे. या प्रेस कांफ्रेंस में चिदंबरम ने की यूपीए सरकार की वकालत...या ऐसे ही बहुत कुछ. पर बीच में आ गया जूता. और मौके पर उपस्थित हर पत्रकार, देश भर में टीवी से चिपके पत्रकार, शाम को अखबारों का पहला पन्ना बनानेवाले पत्रकार, सभी असल मुद्दे को भूल गये. गृहमंत्री ने क्या कहा, क्या नहीं...इस विषय से सब दूर हो गये. मौके पर लगायी गयी टीवी चैनलों की ओवी के कैमरे का रुख जरनैल सिंह की ओर हो गया. उन्हें थाने ले जाया गया, उससे पहले ही चैनलों और अखबारों के क्राइम बीट के संवाददाता थाने पहुंच गये. अटकलें लगाने लगे. एंकर और संवाददाताओं के बीच बातचीत में जरनैल सिंह की पीढ़ियों की कहानी का जिक्र होने लगा. चिदंबरम को लोग भूल गये. यह हुआ एक नमूना.दूसरा नमूना...हालांकि दूसरे नमूने से पहले हमें इस बात पर भी चिंतन करना चाहिए कि हमारी स्टोरी (न्यूज) का एंगल क्या होगा, इसका अंदाजा दूसरे लोग (जो मीडिया के नहीं हैं) कैसे लगा लेते हैं. अब आप पूछेंगे कैसे, तो बात जरा विस्तार में करते हैं. फिल्म प्रोड्यूसरों और मल्टीप्लेक्स मालिकों के बीच मुनाफे के बंटवारे को लेकर तनातनी चल रही है. प्रोड्यूसरों ने मल्टीप्लेक्स में फिल्में रिलीज करने से मना कर दिया है. इसी मुद्दे पर प्रोड्यूसरों ने प्रेस कांफ्रेंस बुलायी. उसमें शाहरूख और आमिर खान भी पहुंचे. बस हम भटक गये मुद्दे से. न हमें मल्टीप्लेक्स याद रहे. न ही याद रहीं फिल्में. मौके पर मौजूद अन्य प्रोड्यूसरों को भी हम भूल गये. उनकी बातों से कोई मतलब नहीं रहा. छुट्टियों के इस सीजन में फिल्में न रिलीज करने के प्रोड्यूसरों के फैसले के पीछे के कारणों को भी हम भूल गये. याद रहे, तो सिर्फ शाहरूख और आमिर. यानी की हम मुद्दे से भटक गये. हमने यह नहीं सोचा कि छुट्टियों में इस तरह के विवाद खड़े करने का फायदा प्रोड्यूसर इसलिए उठा रहे हैं, क्योंकि आइपीएल और आम चुनाव के चलते शायद ही कोई दर्शक सिनेमा हाल का रुख करेगा. ऐसे में फिल्में रिलीज हुईं, तो भी पिट जायेंगी. तो प्रोड्यूसरों ने (शायद) सोचा कि चलो इसी बहाने कुछ नया करते हैं. यह हुआ एक पहलू. दूसरा पहलू यह कि दूसरे हमारी स्टोरी का एंगल पहले जानते हैं, कैसे ???? ऐसे...शाहरुख ने प्रेस कांफ्रेंस में बार-बार कहा...आप लोग (संवाददाता) शायद मेरे और आमिर के एक मंच पर उपस्थित होने को बड़ी खबर बनायेंगे. हमारी दोस्ती के किस्से कहेंगे. पर हमारे मुद्दे को मत भूलियेगा. हमारे फिल्में न रिलीज करने के कारण को जरूर हाई लाइट कीजियेगा. और माफ कीजियेगा...हम शाहरुख की आशंका पर बिल्कुल खरे उतरे. हमने बड़े-बड़े अक्षरों में शाहरुख और आमिर के एक मंच पर उपस्थित होने की खबरें छापीं. हमने दोनों पर अलग से प्रोग्राम बनाये...पर मुद्दा, मुद्दा तो हम भूल ही गये. हमने वही किया, जिसकी आशंका शाहरूख को पहले से ही थी. यानी कहीं न कहीं, लोग हमारी मानसिकता को जान गये हैं, पहचान गये हैं. तो क्या अब हमें ऐसी मानसिकता को बदलने की जरूरत नहीं...? कुछ ऐसा करने की जरूरत नहीं, जिससे खबरों में रहने वाले लोग दूसरे दिन की हेडलाइन का अंदाजा पहले से न लगा लें...? जरूरत है चिंतन की...

कोई टिप्पणी नहीं: