बुधवार, 14 जनवरी 2009

उदासी

जिंदगी चलते-चलते अचानक ठहर सी जाती है,
तब देखता हूं अपनी ही आंखों में उदासी है।
जिन आंखों में डूबकर लिखता था किस्सा मुहब्बत का,
उन आंखों के कतरों की उदासी भी तो प्यासी है।
तेरी शबनम सी आंहों पर बदल बैठा ये दिल मेरा,
तेरे आगोश में रहकर मचल बैठा ये दिल मेरा।
तेरी एक भूख ने बदल दी तस्वीर ये कैसी है,
जलन दिल की तब जैसी थी, ये वैसी थी ये वैसी है.
मैं हंसता हूं, न रोता हूं मेरी तकदीर कैसी है,
झपट कर फाड़ दी हो जैसे ये तसवीर वैसी है।
तेरे मासूम गुनाहों की सजा, किसी को दे नहीं सकता,
मेरे पागल दिल भला मैं तुझको खो नहीं सकता.

कोई टिप्पणी नहीं: